वेबसाइट क्या है (What is website) फूल जानकारी 2022

0
291

वेबसाइट क्या है और पूरी जानकारी 2022

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका फिर से एक और बेमिसाल पोस्ट में इसमैं हम बात करने वाले हैं की वेबसाइट क्या है (what is websit in hindi) और वेबसाइट कितने प्रकार कि होती हैं आजकल बहुत सारे सवाल हर व्यक्ति के मन में आते हैं। इसलिए में आज कि इस पोस्ट में इन्ही के बारे मे बात करने बाला हू और इसके अलावा में इस पोस्ट में इस विषय से जुड़ी हुई सारी जानकारी (नॉलेज) के बारे में संपूर्ण जानकारी देना चाहूंगा। तो डियर फ्रेंड्स शुरू करते हैं आजकल हर किसी के पास मोबाइल (mobile) laptop और टेबलेट है आजकल हम इनसे बहुत सारे कार्य करते हैं   उदाहरण के तौर पर गाने सुनना फिल्म देखना गेम खेलना इत्यादि प्रिय दोस्तो आपको इस कार्य को करने के लिए इंटरनेट की कोई भी आवश्यकता नहीं होती है लेकिन कुछ दूसरे कार्यों के लिए इंटरनेट की आवश्यकता भी जरूरी होती है जैसे ऑनलाइन शॉपिंग करना इनफॉर्मेशन सर्च करना ऑनलाइन बिजनेस करना ऑनलाइन मूवी देखना है ट्रेन टिकट होटल बुकिंग करना ईमेल भेजना इत्यादि।

🔍 शेयर मार्केट मैं इन्वेस्ट कैसे करें ?

🔍 यूनिक आर्टिकल कैसे लिखें ?

वेबसाइट क्या है ( वेबसाइट इन हिंदी)

डियर फ्रेंड्स आपको बता दूं कि website बहुत सारे webpages ke collections को वेबसाइट कहते हैं। या साधारण भाषा में यह भी कह सकते हैं कि वेबसाइट एक ऐसा लोकेशन है जहां बहुत सारे webpages को रखा जाता है। और वेबसाइट के प्रत्येक वेबपेज में कुछ न कुछ इनफॉर्मेशन होती हैं। जैसे अभी आप भी एक वेबसाइट के एक पेज पर हैं।इस पेज पर (वेबसाइट क्या है) इसकी जानकारी है।और यह वेबपेज (webpage) हमारी वेबसाइट (website) hindime.net नाम है। (Https://hindime.net) का ही एक पेज है जब हमारे पेज की दूसरी पोस्ट के ऊपर जैसे ही आप क्लिक करेंगे तो एक अलग ही पेज खुलेगा। वह भी एक वेबपेज है
प्रिय दोस्तों वेबसाइट को ओपन करने के लिए हम एक सॉफ्टवेयर या एप्लीकेशन का उपयोग करते हैं जिसको हम ओपेरा मिनी यूसी ब्राउजर गूगल क्रोम वेब ब्राउज़र कहते हैं दोस्तों मैं आपको एक सरल ही भाषा में बताता हूं की वेबसाइट में बहुत सारे पेजो संग्रह होता है अब तो आप वेबसाइट के बारे में समझ ही गए होंगे।

🔍 नेट की फुल फॉर्म क्या है ?

🔍 वेब सर्वर क्या है ?

वेबसाइट की परिभाषा

डियर फ्रेंड्स आज के इस topik को अच्छे से समझने के लिए नीचे दिए गए शब्दों के बारे मैं नॉलेज होनी चाहिए।

  स्टेटिक वेब पेज (static web page)

Static web pages हर नए और पुराने यूजर्स के लिए एक समान होते हैं।static web page सीमित (फिक्स्ड) रहते हैं।
Dear friends जब आप भी वेबसाइट (website)ko ओपन करते हैं तो आपने देखा होगा कि जिन पेजेस के कंटेंट कभी नहीं बदलते l और वे pege किसी भी व्यक्ति के लिए एक समान दिखाई देते हैं।but कुछ site हैं जिनके कॉन्टेंट hur समय बदलते रहते हैं और भिन्न भिन्न user ke liye अलग वेबपेज होते हैं। जैसे फेसबुक. कॉम etc.

Dynamic Web Page

Dear friends me आपको बता दूं कि Dynamic webpage क्या होता है इस वेबपेज (webpage) के कंटेंट हमेशा change hote रहते हैं जैसे मे जब लॉगिन करता हूं तो मेरा पेज आपके पेज से बहुत अलग होगा।
क्या आप भी अपने पसंद की (डिजाइन) की बनाना चाहते हैं तो आपको होमपेज के बारे संपूर्ण जानकारी प्राप्त करनी होगी।

होम पेज(home page)        

वेबसाइट के फर्स्ट पेज को  होम पेज कहते है या जब कोई  भी व्यक्ति वेबसाइट को विजिट करता है तब जो page open hota hai उसे होम पेज कहते है। जैसे https://hindime.net इस पर क्लिक करके के बाद जो पेज ओपन होगा उसे साइट का होम पेज कहते है। वेबसाइट की रूट डायरेक्टरी में ये पेज मोजूद रहता है। इस पेज में ये सब फाइल्स मोजूद रहती हैं।

जैसे

इंडेक्स.htm,इंडेक्स,shtml, डिफॉल्ट html,index HTML, और होम,html
Search Engine यह एक प्रोग्राम  है या कह सकते हैं कि यह एक ऐसा वेब प्रोग्राम(program) है जो कि इन्टरनेट के असीमित डेटाबेस में से यूजर जो इनफॉर्मेशन या सवाल को इन्टरनेट के माध्यम से सर्च करता है।
Web Address/URL
Url का फुल फॉर्म( uniform resource locator) होता है।

ये एक फॉर्मेटेड टेक्स्ट स्ट्रिंग है। इसका उपयोग वेब ब्राउज़र ,ईमेल क्लाइंट्स या किसी अन्य सॉफ्टवेयर में उपयोग किया जता है। किसी भी नेटवर्क रिसोर्स को ढूंढने के लिए नेटवर्क रिसोर्स कोई भी फाइल्स हो सकती हैं
उदाहरण वेबपेज टेक्स्ट डॉक्यूमेंट,ग्राफिक्स,या प्रोग्राम्स ।
डोमेन(Domain)
मेरे भाइयों एक डोमेन नेम ही आपके वेबसाइट का नेम बताता है। और इसके माध्यम से ही लोग वेबसाइट तक पहुंच पाते हैं। और यह वेबसाइट की पहचान है

लेटर और नंबर से ही वेबसाइट का नाम लिखा जा सकता है।डोमेन नेम का उपयोग एक इससे अधिक ip Address की पहचान करने के लिए किया जाता हैं। जैसे माइक्रोसॉफ्ट.कॉम (microsoft.com) यह एक डोमैन का नाम ही है। एक स्पष्ट वेबसाइट की पहचान करने के लिए डोमेन नेम को यूआरएल में लिखा जाता है। प्रिय मित्रों आपको एक सरल भाषा में बता दूं कि हर ब्लॉग और वेबसाइट के अंत में एक नाम जुड़ा होता है जैसे डॉट कॉम डॉट इन डॉट नेट डॉट ओआरजी यह सभी बेस्ट लेवल डोमेन  को दर्शाते हैं उदाहरण के लिए
*Gov – Government agencies
*Edu – Educational institutions
*Org – Organizations (nonprofit)
*Mil – Military
*Com – commercial business
*Net – Network organizations
*In – India
*Ca – Canada
*Th – Thailand

वेबसाइट के प्रकार _टाइप्स ऑफ वेबसाइट इन हिंदी

डियर फ्रेंड्स प्रतिदिन आप कुछ न कुछ जानकारी प्राप्त करने के लिए इंटरनेट का उपयोग करते ही हैं और साथ ही कई तरह के ब्लॉग और वेबसाइट को भी ओपन करते हैं
वैसे तो यह वेबसाइट के अलग प्रकार है लेकिन इन्हें हम दो भागों में बांट सकते हैं
1* Static website
2* Dynamic website
तो चलिए डियर फ्रेंड्स वेबसाइट के प्रकारों के बारे में विस्तार से समझते हैं

1)static website

डियर फ्रेंड्स स्टेटिक वेबसाइट एक ऐसी वेबसाइट है इसके वेबपेज को स्टोर किया जाता है साधारण शब्दों में कहा जाए तो स्टैटिक वेबसाइट एक बहुत ही बेसिक टाइप की वेबसाइट होती है और ने बड़ी आसानी से क्रिएट किया जा सकता है। डियर फ्रेंड्स मैं आपको बता दूं कि इसके लिए आपको किसी भी वेब प्रोग्रामिंग या डाटाबेस डिजाइन का ज्ञान होना जरूरी नहीं है स्टैटिक वेबसाइट के वेब पेजों को
HTML में कोड किया गया है इसके codes फिक्स होती है और इसके प्रत्येक पेज से जो भी जानकारी प्राप्त होती है वह बदलती नहीं है यानी प्रिंटेड (printed page) पेज की तरह होती है

2)Dynamic Website

डियर फ्रेंड्स डायनेमिक वेबसाइट एक ऐसी वेबसाइट होती हैं।  जो कि खुद को बदलती है या ऑटोमेटिकअली कस्टमाइज करती है सरल शब्दों में कहा जाए की dynamic website एक ऐसा कलेक्शन यानी संग्रह होती है  जिसमें डायनेमिक वेब पेजों के निष्कर्ष अपने आप बदलते रहते हैं। यह वेबसाइट अपने निष्कर्ष accrss करती है यह एक डाटाबेस या कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम। तो ऐसे में आप किसी भी प्रकार का बदलाव करते हैं तो डेटाबेस के कंटेंट में, और इस प्रकार तब वेबसाइट  कंटेंट अपनेआप परिवर्तित हो जाता है या बदलाव हो जाता है यह साधारण भाषा में कहें कि यह अपडेट हो जाते हैं डायनेमिक वेबसाइट में client-साइड स्क्रिप्टिंग या सर्वर साइड स्क्रिप्टिंग या दोनों का उपयोग होता है डायनेमिक कंटेंट जनरेट करने के लिए।

वेब पेज वेबसाइट, Web Server और Search Engine में क्या अंतर होता है ?

अधिकतर लोगों को इन चारों टेक्निकल terms ke विषय में ज्यादा पता नहीं होता है क्योंकि ये ज्यादा ही confusing होते हैं।तो dear friends चलिए इनके विषय में जानते है और उनके अंतर के बारे में जानते हैं।

Web page

Dear friends web page एक डॉक्यूमेंट होते हैं जिनको वेब ब्राउज़र में डिस्प्ले किया जा सकता है।वेब ब्राउजर उदाहरण के लिए फायरफॉक्स ,गूगल क्रोम, ओपेरा मिनी, इन्टरनेट एक्सप्लोर  etc, इन पेपर्स को पेजेस भी कहा जाता है

वेबसाईट (website)

यह एक संग्रह होता है इसमें वेबपेजो को एक साथ इकट्ठा किया जाता है। और ये एक दूसरे साथ usually connected होते हैं माना जाए तो वेबसाईट को  simply एक साइट भी का जाता हैै।

वेबसर्वर

प्रिय मित्रों web server एक कंप्यूटर होता है को कि वेबसाइट को इन्टरनेट में host करता है
Search Engine
प्रिय दोस्तों सर्च इंजन एक ऐसा कलेक्शन यानी (website) hota hai जो कि वेब पेजेस को सर्च करने के लिए यूजर्स की हेल्प करता है (for example)उदाहरण के लिए Google, Bing, या याहू,
हम एक सिम्पल analogy का उपयोग करते हैं ऊपर बताए गए शब्दों को  समझने के लिए
एक पब्लिक लाइब्रेरी में जो कुछ भी करते हैं। चलिए उसे समझते हैं।
1) सबसे पहले search index को खोजना होगा और फिर उस बुक का टाइटल खोजना होगा जिसे आप चाहते है
,2) अब  बुक का कैटलॉग नंबर ka ek नोट करें
3) डियर फ्रेंड्स फिर उस पार्टिकुलर सेक्शन पर जाए जिसमें कि आपको वह बुक दिखाई देगी और फिर सही कैटलॉग नंबर को खोजें और ऐसा करने पर आपका बुक बन जाएगा।
अब चलिए इस लाइब्रेरी को एक  वेबसर्व के साथ तुलना (कंमपेयर) करते हैं  एक लाइब्रेरी एक वेब सर्वर के समान ही होता है aur bahut sare selection hote Hain Jo ki similar hote Hain और यह एक वेबसर्वर के समान दिखाई देता है जिसमे multiple वेबसाइट होस्ट किया जाता हैं।

लाइब्रेरी के अलग-अलग भाग होते हैं। जैसे कि साइंस,मात्र हिस्ट्री etc, यह सेक्शन वेबसाइट के समान होते है।हर एक सेक्शन एक यूनिक वेबसाइट के समान होते हैं। जैसे दो भागों मे समान बुक्स नहीं होते हैं।
सेक्शन में मोजूद बुक्स वेबपेज के तरह होते हैं जैसे कि Science section (यह एक संग्रह वेबसाइट की तरह होता है) उसमें किताबें अलग अलग तरीके की होती है जैसे हिट, साउंड, thermodynamics,स्टैटिक etc,(ये भीं वेबसाइट हैं )
प्रिय दोस्तो एसमे सर्च इंडेक्स एक सर्च इंजन के समान होता है
प्रत्येक बुक कि एक वरिष्ठ लोकेशन होती हैं लाइब्रेरी में ।।

जैसे 2 बुक्स को एक या जगह स्थान पर नहीं रख सकते हैं और उन्हें एक कैटलॉग नंबर से स्पेसिफाई किया जाता है ।
और वही वेब पेज एस के यूनिक एड्रेस होते हैं एक भी पेज को रिसीव करने के लिए यूनिक एड्रेस का इस्तेमाल किया जाता है एक बेर सर्वर से। इसके लिए आपको मेरे भाइयों एड्रेस को वेब ब्राउज़र के एड्रेस बार में टाइप करना होता है

निष्कर्ष्:

डियर फ्रेंड्स मैं आशा करता हूं कि आप बेसाइड क्या है और इसके प्रकार के बारे में अच्छी तरह से समझ गए होंगे और मेरे भाइयों आपको वेबसाइट से रिलेटेड सारी जानकारी मिल गई होगी फिर भी आपको कोई दिक्कत या परेशनी है तो  please aap comment karke poochh sakte hain
धन्यवाद!

Previous articleVideo call करने बेस्ट वाले ऐप डाउनलोड करें
Next articleInstragram पर लाइक्स बढ़ाने का नया तरिका
नमस्कार दोस्तों मेरा नाम Ajay Rajpoot है और मैं Kheragarh Utter Pradesh का रहने वाला हूं। दोस्तों में ग्रेजुएशन कंप्लीट करने के बाद दो साल blogging का course किया और मुझे Blogging के क्षेत्र में अच्छी जानकारी होने के बाद मैंने खुद का एक वेबसाइट क्रिएट किया है जिसका नाम है "Techhum.in" दोस्तों इस ब्लॉग के माध्यम से ब्लॉगिंग, मेक मनी, मार्केटिंग, यूट्यूब, इंटरनेट, टिप्स एंड ट्रिक आदि से रिलेटेड जानकारी दी जाएगी. दोस्तों यदि आपको ब्लॉगिंग से रिलेटेड कोई भी सवाल या सहायता चाहिए तो आप हमें बेझिझक हमारी ईमेल आईडी पर कांटेक्ट कर सकते हैं। मैं आपकी पूरी सहायता करने की पूरी कोशिश करूंगा। धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here